Home Blog

मन को अति भावे – Man Ko Ati Bhaave (Shankar, London Dreams)

पढ़िए मन को अति भावे – Man Ko Ati Bhaave (Shankar, London Dreams) लिरिक्स | अधिक जानकारी गीत के बारे में:

फ़िल्म का नाम: लन्दन ड्रीम्स (2009)
गीत के संगीत कार है: शंकर एहसान लॉय
गीत के गीतकार है: प्रसून जोशी
इस गीत को गया है: शंकर महादेवन

मन को अति भावे सैयाँ, करे ताता थईयाँ
मन गाये रे, हाय रे, हाय रे, हाय रे
हम प्रियतम ह्रदय बसैयाँ, पागल हो गइयाँ
मन गाए रे, हाय रे…

जो मारी नैन कंकरिया, तो छलकी प्रेम गगरिया
और भीगी सारी नगरिया, सब नृत्य करे संग-संग
तोरे बाण लगे नस-नस में, नहीं प्राण मोरे अब बस में
मन डूबा प्रेम के रस में, हुआ प्रेम-मगन कण-कण
हो बेब्बे, बेब्बे, सौंपा तुझको तन-मन
मन को अति भावे सैयाँ…

क्या उथल-पुथल, बावरा-सा पल
साँसों पे सरगम का त्यौहार है
बन के मैं पवन, चूम लूँ गगन
हो ऋतुओं पे अब मेरा अधिकार है
संकेत किया प्रियतम ने, आदेश दिया धड़कन ने
सब वार दिया फिर हमने, हुआ सफल-सफल जीवन
अधरों से वो मुस्काई, काया से वो सकुचाई
फिर थोड़ा निकट वो आई, था कैसा अद्भुत क्षण
हो बेब्बे, बेब्बे, मैं हूँ सम्पूर्ण मगन
मन को अति भावे सैयाँ…

पुष्प आ गए, खिलखिला गए
उत्सव मनाता है सारा चमन
चन्द्रमा झुका, सूर्य भी रूका
दिशाएँ मुझे कर रही हैं नमन
तूने जो थामी बईयाँ, सबने ली मेरी बलईयाँ
सुधबुध मेरी खो गईयाँ, हुआ रोम-रोम उपवन
जब प्रीत-फ़सल लहराई, धरती ने ली अंगड़ाई
और मिलन-बदरिया छाई, कस के बरसा सावन
हो बेब्बे, बेब्बे, सब हुआ तेरे कारण
मन को अति भावे सैयाँ…



[message] Leave Your Rating:1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...[/message]
Hope you liked the lyrics. Why not share it!



Found any mistakes in the [mark color=”yellow”]मन को अति भावे – Man Ko Ati Bhaave (Shankar, London Dreams)[/mark]? Please mention the mistake in comments so we can better the quality of lyrics.
You are a rockstar! Thanks.

सा रे ग म प म ग रे – Sa Re Ga Ma Pa Ma Ga Re (Kishore, Lata, Man Pasand)

पढ़िए सा रे ग म प म ग रे – Sa Re Ga Ma Pa Ma Ga Re (Kishore, Lata, Man Pasand) लिरिक्स | अधिक जानकारी गीत के बारे में:

Movie/ Album: मन पसंद (1980)
गीत के संगीत कार है: राजेश रोशन
गीत के गीतकार है: अमित खन्ना
इस गीत को गया है: किशोर कुमार, लता मंगेशकर

सा रे ग म प म ग रे सा, गाओ
सा रे ग म प म ग रे सा
सा रे ग म प म ग रे सा ग, सा ग, फिर से गाओ
सा रे ग म प म ग रे सा ग, सा ग
शाब्बास!

सा रे ग म प म ग रे सा ग, सा ग
रे ग म प म ग रे स, रे प, रे प
प ध नी स नी ध प म, म ध, ग ध प, नी स

आवाज़ सुरीली का, जादू ही निराला है
संगीत का जो प्रेमी, वो किस्मत वाला है
तेरे-मेरे, मेरे-तेरे सपने-सपने
सच हुए देखो सारे अपने-सपने
फिर मेरा मन ये बोला, बोला, बोला
क्या?
सा रे ग म प म ग रे…

चारु चंद्र की चंचल चितवन बिन बदरा बरसे सावन
मेघ मल्हार मधुर मन भावन पवन पिया प्रेमी पावन
चल, चाँद-सितारों को, ये गीत सुनाते हैं
हम धूम मचाकर आज, सोया जहां जगाते हैं
हम-तुम, तुम-हम गुमसुम-गुमसुम
झिलमिल-झिलमिल, हिलमिल-हिलमिल
तू मोती मैं माला, माला, ला ला

अरमान भरे दिल की धड़कन भी बधाई दे
अब धुन मेरे जीवन की कुछ सुर में सुनाई दे
रिमझिम-रिमझिम, छमछम-गुनगुन
तिल-तिल, पल-पल, रुमझुम-रुमझुम
मनमंदिर में पूजा, पूजा, आहा
सा रे ग म प म ग रे…



[message] Leave Your Rating:1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...[/message]
Hope you liked the lyrics. Why not share it!



Found any mistakes in the [mark color=”yellow”]सा रे ग म प म ग रे – Sa Re Ga Ma Pa Ma Ga Re (Kishore, Lata, Man Pasand)[/mark]? Please mention the mistake in comments so we can better the quality of lyrics.
You are a rockstar! Thanks.

दीवानी मस्तानी – Deewani Mastani (Shreya, Ganesh, Mujtaba, Shadab, Altamash, Farhan, Bajirao Mastani)

पढ़िए दीवानी मस्तानी – Deewani Mastani (Shreya, Ganesh, Mujtaba, Shadab, Altamash, Farhan, Bajirao Mastani) लिरिक्स | अधिक जानकारी गीत के बारे में:

फ़िल्म का नाम: बाजीराव मस्तानी (2015)
गीत के संगीत कार है: संजय लीला भंसाली
गीत के गीतकार है: सिद्दार्थ गरिमा, नासिर फराज़, गणेश चन्दनशिवे
इस गीत को गया है: श्रेया घोषाल, गणेश चन्दनशिवे, मुजतबा अज़ीज़ नज़ा, शादाब फरीदी, अल्तामश फरीदी, फरहान सबरी

नभातुन आली अप्सरा
नभातुन आली अप्सरा
अशी सुन्दरा साज सजवून
आली आली आली
आली ग आली
केसा मधी मांडला गजरा
लोकांच्या नजरा खिल्या तिच्यावर
आली आली आली…

दुनियाची प्यारी तू
अग रानी हरनी ग
अग रानी सुन्दरा हा हा हा
आली ग आली…
ओ महारानी आली आली…
अग ग ग ग…

नज़र जो तेरी लागी मैं दीवानी हो गयी
दीवानी हाँ दीवानी, दीवानी हो गई
मशहूर मेरे इश्क़ की कहानी हो गयी
जो जग ने न मानी, तो मैंने भी ठानी
कहाँ थी मैं देखो कहाँ चली आई
कहते हैं ये दीवानी मस्तानी हो गयी
मशहूर मेरे इश्क़ की…

ज़ख़्म ऐसा तूने लगाया
दीवानी, दीवानी, दीवानी हो गयी
मरहम ऐसा तूने लगाया
रूहानी, रूहानी, रूहानी हो गयी
पहचान मेरे इश्क़ की अब तो
रवानी, रवानी, रवानी हो गयी
मशहूर मेरे इश्क़ की…

सब नूर-नूर सा बिखरा है
एक तू ही ख्यालों में उतरा है
बस झूम झूम
झूम झूम जाता है दिल
तू मस्तानी है, तू दीवानी है
पाकीज़ा हस्ती है तेरी, तू नूरानी है
सब नूर-नूर सा बिखरा है
एक तू ही ख्यालों में उतरा है



[message] Leave Your Rating:1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...[/message]
Hope you liked the lyrics. Why not share it!



Found any mistakes in the [mark color=”yellow”]दीवानी मस्तानी – Deewani Mastani (Shreya, Ganesh, Mujtaba, Shadab, Altamash, Farhan, Bajirao Mastani)[/mark]? Please mention the mistake in comments so we can better the quality of lyrics.
You are a rockstar! Thanks.

ना मैं धन चाहूँ – Na Main Dhan Chaahoon (Geeta, Sudha, Kala Bazaar)

पढ़िए ना मैं धन चाहूँ – Na Main Dhan Chaahoon (Geeta, Sudha, Kala Bazaar) लिरिक्स | अधिक जानकारी गीत के बारे में:

Movie/ Album: काला बाज़ार (1960)
गीत के संगीत कार है: सचिन देव बर्मन
गीत के गीतकार है: शैलेन्द्र
इस गीत को गया है: गीता दत्त, सुधा मल्होत्रा

ना मैं धन चाहूँ, ना रतन चाहूँ
तेरे चरणों की धूल मिल जाए
तो मैं तर जाऊँ
श्याम तर जाऊँ, हे राम तर जाऊँ

मोह मन मोहे, लोभ ललचाए
कैसे-कैसे ये नाग लहराए
इससे पहले कि दिल उधर जाए
मैं तो मर जाऊँ, क्यूँ न मर जाऊँ
न मैं धन चाहूँ…

लाए क्या थे, जो ले के जाना है
नेक दिल ही तेरा ख़ज़ाना है
साँझ होते ही पंछी आ जाए
अब तो घर जाऊँ, अपने घर जाऊँ
तेरे चरणों की धूल…

थम गया पानी, जम गई काई
बहती नदियाँ ही साफ़ कहलाई
मेरे दिल ने ही जाल फैलाई
अब किधर जाऊँ, मैं किधर जाऊँ
अब किधर जाऊँ…



[message] Leave Your Rating:1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...[/message]
Hope you liked the lyrics. Why not share it!



Found any mistakes in the [mark color=”yellow”]ना मैं धन चाहूँ – Na Main Dhan Chaahoon (Geeta, Sudha, Kala Bazaar)[/mark]? Please mention the mistake in comments so we can better the quality of lyrics.
You are a rockstar! Thanks.

पल दो पल का – Pal Do Pal Ka (Rafi, Asha, The Burning Train)

पढ़िए पल दो पल का – Pal Do Pal Ka (Rafi, Asha, The Burning Train) लिरिक्स | अधिक जानकारी गीत के बारे में:

फ़िल्म का नाम: द बर्निंग ट्रेन (1980)
गीत के संगीत कार है: आर.डी.बर्मन
गीत के गीतकार है: साहिर लुधियानवी
इस गीत को गया है: मो.रफ़ी, आशा भोंसले

पल दो पल का साथ हमारा
पल दो पल के याराने हैं
इस मंज़िल पर मिलने वाले
उस मंज़िल पर खो जाने हैं
पल दो पल का…

दो पल, पल दो पल का साथ हमारा, हमारा
पल दो पल का…

नज़रों के शोख़ नज़राने, होंठों के गर्म पैमाने
हैं आज अपनी महफ़िल में, कल क्या हो कोई क्या जाने
ये पल ख़ुशी की जन्नत है, इस पल में जी ले दीवाने
आज की खुशियाँ एक हक़ीकत, कल की खुशियाँ अफ़साने हैं
पल दो पल का…

हर ख़ुशी कुछ देर की मेहमान है
पूरा कर ले दिल में जो अरमान है
ज़िन्दगी इक तेज़-रौ तूफ़ान है
इसका जो पीछा करे नादान है
गुमशुदा खुशियों पे क्यूँ हैरान है
वक़्त लौटे इसका कब इम्कान है
झूम जब तक झूम
झूम जब तक धड़कनों में जान है
झूमना ही ज़िन्दगी की शान है
झूम जब तक झूम
अव्वल-आख़िर हर कोई अनजान है
ज़िन्दगी बस, राह की पहचान है
झूम जब तक झूम
झूम जब तक धड़कनों में…
दोस्तों, अपना तो ये ईमान है
जो भी जितना साथ दे, एहसान है
उम्र का रिश्ता जोड़ने वाले
अपनी नज़र में दीवाने हैं
पल दो पल का…



[message] Leave Your Rating:1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...[/message]
Hope you liked the lyrics. Why not share it!



Found any mistakes in the [mark color=”yellow”]पल दो पल का – Pal Do Pal Ka (Rafi, Asha, The Burning Train)[/mark]? Please mention the mistake in comments so we can better the quality of lyrics.
You are a rockstar! Thanks.

नज़रों से कह दो – Nazron Se Kah Do (Lata, Kishore, Doosara Aadmi)

पढ़िए नज़रों से कह दो – Nazron Se Kah Do (Lata, Kishore, Doosara Aadmi) लिरिक्स | अधिक जानकारी गीत के बारे में:

फ़िल्म का नाम: दूसरा आदमी (1977)
गीत के संगीत कार है: राजेश रोशन
गीत के गीतकार है: मजरूह सुलतानपुरी
इस गीत को गया है: लता मंगेशकर, किशोर कुमार

नज़रों से कह दो प्यार में
मिलने का मौसम आ गया
बाँहों में बाँहें डाल के
खिलने का मौसम आ गया
नज़रों से कह दो…

अनु-अनु, अरे बाबा जानू
रोको ना तुम मुझे
ज़रा सुनो तो…

इस प्यार से तेरा हाथ लगा
लहरा गए गेसू मेरे
अरे कुछ भी नज़र आता नहीं
मस्ती में मुझे तुझसे परे
कांधे पे मेरे ज़ुल्फ़ के
ढलने का मौसम आ गया
बाहों में बाहें डाल के…

तुम मिल भी गए, फिर भी दिल को
क्या जाने कैसी आस है
तुम पास हो फिर भी होंठों में
जाने कैसी प्यास है
होंठों की ठंडी आग में
जलने का मौसम आ गया
नज़रों से कह दो…



[message] Leave Your Rating:1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...[/message]
Hope you liked the lyrics. Why not share it!



Found any mistakes in the [mark color=”yellow”]नज़रों से कह दो – Nazron Se Kah Do (Lata, Kishore, Doosara Aadmi)[/mark]? Please mention the mistake in comments so we can better the quality of lyrics.
You are a rockstar! Thanks.

रेल गाड़ी – Rail Gaadi (Ashok Kumar, Aashirwad)

पढ़िए रेल गाड़ी – Rail Gaadi (Ashok Kumar, Aashirwad) लिरिक्स | अधिक जानकारी गीत के बारे में:

फ़िल्म का नाम: आशिर्वाद (1968)
गीत के संगीत कार है: वसंत देसाई
गीत के गीतकार है: हरीन्द्रनाथ चटोपाध्याय
इस गीत को गया है: अशोक कुमार

आओ बच्चों खेल दिखाएँ, छुक-छुक करती रेल चलाएँ
सिटी लेकर सीट पे बैठो, एक-दूजे की पीठ पे बैठो
आगे-पीछे, पीछे-आगे, लाइन से लेकिन कोई न भागे
सारी-सीधी लाइन में चलना, आँखें दोनों मीचे रखना
बंद आँखों से देखा जाए, आँख खुले तो कुछ न पाएँ
आओ बच्चों रेल चलाएँ

सुनो रे बच्चों टिकट कटाओ
तुम लोग नहीं आओगे तो रेल गाड़ी छूट जाएगी
यठ्ठणणणणण, यठ्ठणणणणण
भफ भफ भफ भफ…

आओ सब लाइन में खड़े हो जाओ
मुन्नी, तुम हो इंजन, डब्बू, तुम हो कोयले का डिब्बा
चुन्नू, मुन्नू, लीला, शीला, मोहन, सोहन, जादव, माधव
सब पैसेंजर, सब पैसेंजर
यठ्ठणणणणण, यठ्ठणणणणण
रेडी? एक दो…

रेल गाड़ी, रेल गाड़ी
छुक छुक छुक छुक…
बीच वाले स्टेशन बोले
रूक रूक रूक रूक…
तड़क-भड़क, लोहे की सड़क
धड़क-धड़क, लोहे की सड़क
यहाँ से वहाँ, वहाँ से यहाँ
यहाँ से वहाँ, वहाँ से वहाँ
छुक छुक छुक छुक छुक

फुलाए छाती, पार कर जाती
बालू रेत, आलू के खेत
बाजरा धान, बुड्ढा किसान
हरा मैदान, मंदिर, मकान, चाय की दुकान
पुल-पगडण्डी, किले पे झंडी
पानी के कुंड, पंछी के झुण्ड
झोंपड़ी, झाड़ी, खेती-बाड़ी
बादल, धुआँ, मोट-कुआँ
कुएँ के पीछे, बाग़-बगीचे
धोबी का घाट, मंगल की हाट
गाँव में मेला, भीड़ झमेला
टूटी दीवार, टट्टू सवार
रेल गाड़ी, रेल गाड़ी…

धरमपुर-ब्रह्मपुर, ब्रह्मपुर-धरमपुर
मंगलौर-बैंगलोर, बैंगलोर-मंगलौर
मांडवा-खांडवा, खांडवा-मांडवा
रायपुर-जयपुर, जयपुर-रायपुर
तालेगाँव-मालेगाँव, मालेगाँव- तालेगाँव
नेल्लूर-वेल्लूर, वेल्लूर-नेल्लूर
शोलापुर-कोल्हापुर, कोल्हापुर-शोलापुर
कुक्कल-डिंडिगल, डिंडिगल-कुक्कल
मछलीपट्नम-भीमनीपटनम, भीमनीपटनम-मछलीपट्नम
ओंगोल-नारगोल, नारगोल-ओंगोल
कोरेगाँव-गोरेगाँव, गोरेगाँव-कोरेगाँव
अहमदाबाद-महमदाबाद, महमदाबाद-अहमदाबाद
शोतपुर-जोधपुर, जोधपुर-शोतपुर
छुक छुक छुक छुक छुक…
बीच वाले स्टेशन बोले…



[message] Leave Your Rating:1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...[/message]
Hope you liked the lyrics. Why not share it!



Found any mistakes in the [mark color=”yellow”]रेल गाड़ी – Rail Gaadi (Ashok Kumar, Aashirwad)[/mark]? Please mention the mistake in comments so we can better the quality of lyrics.
You are a rockstar! Thanks.

मान मेरा एहसान – Maan Mera Ehsaan (Md.Rafi, Aan)

पढ़िए मान मेरा एहसान – Maan Mera Ehsaan (Md.Rafi, Aan) लिरिक्स | अधिक जानकारी गीत के बारे में:

Movie/ Album: आन (1952)
गीत के संगीत कार है: नौशाद अली
गीत के गीतकार है: शकिल बदायुनी
इस गीत को गया है: मो.रफ़ी

मान मेरा एहसान, अरे नादान
कि मैंने तुझसे किया है प्यार
मेरी नज़र की धूप, न भरती रूप
तो होता हुस्न तेरा बेकार
मैंने तुझसे किया है प्यार…

उल्फ़त न सही, नफ़रत ही सही
इसको भी मुहब्बत कहते हैं
तू लाख छुपाए भेद
मगर हम दिल में समाए रहते हैं
तेरे भी दिल में आग उठी है जाग
ज़बाँ से चाहे न कर इक़रार
मैंने तुझसे किया…

अपना न बना लूँ तुझको अगर
इक रोज़ तो मेरा नाम नहीं
पत्थर का जिगर पानी कर दूँ
ये तो कोई मुश्किल काम नहीं
छोड़ दे अब ये खेल, तू कर ले मेल मेरे संग
मान ले अपनी हार
मैंने तुझसे किया…
मान मेरा एहसान…



[message] Leave Your Rating:1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...[/message]
Hope you liked the lyrics. Why not share it!



Found any mistakes in the [mark color=”yellow”]मान मेरा एहसान – Maan Mera Ehsaan (Md.Rafi, Aan)[/mark]? Please mention the mistake in comments so we can better the quality of lyrics.
You are a rockstar! Thanks.

बे इन्तेहाँ – Be Intehaan (Atif, Sunidhi, Race 2)

पढ़िए बे इन्तेहाँ – Be Intehaan (Atif, Sunidhi, Race 2) लिरिक्स | अधिक जानकारी गीत के बारे में:

फ़िल्म का नाम: रेस २ (2013)
गीत के संगीत कार है: प्रीतम चक्रवर्ती
गीत के गीतकार है: मयूर पूरी
इस गीत को गया है: आतिफ असलम, सुनिधि चौहान

सुनो ना कहे क्या, सुनो ना
दिल मेरा सुनो ना, सुनो ज़रा
तेरी बाहों में, मुझे रहना है रात भर
तेरी बाँहों में, होगी सुबह
बे इन्तेहाँ, बे इन्तेहाँ
यूँ प्यार कर, यूँ प्यार कर
बे इन्तेहाँ…
देखा करूँ, सारी उमर, सारी उमर
तेरे निशां, बे इन्तेहाँ
कोई कसर ना रहे
मेरी ख़बर ना रहे
छू ले मुझे इस कदर
बे इन्तेहाँ…

जब साँसों में तेरी सासें घुली तो फिर सुलगने लगे
एहसास मेरे मुझसे कहने लगे
हाँ बाहों में तेरी आ के जहां दो यूँ सिमटने लगे
सैलाब जैसे कोई बहने लगे
खोया हूँ मैं आगोश में, तू भी कहाँ अब होश में
मखमली रात की हो ना सुबह
बे इन्तेहाँ…

गुस्ताखियाँ कुछ तुम करो, कुछ हम करें इस तरह
शर्मा के दो साए हैं जो, मुँह फेर ले हमसे यहाँ
हाँ छू तो लिया है ये जिस्म तूने, रूह भी चूम ले
अल्फ़ाज़ भीगे-भीगे क्यूँ है मेरे
हाँ यूँ चूर हो के मजबूर हो के, क़तरा-क़तरा कहे
एहसास भीगे-भीगे क्यूँ हैं मेरे
दो बेखबर भीगे बदन, हो बेसबर भीगे बदन
ले रहे रात भर अंगड़ाईयाँ
बे इन्तेहाँ…



[message] Leave Your Rating:1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...[/message]
Hope you liked the lyrics. Why not share it!



Found any mistakes in the [mark color=”yellow”]बे इन्तेहाँ – Be Intehaan (Atif, Sunidhi, Race 2)[/mark]? Please mention the mistake in comments so we can better the quality of lyrics.
You are a rockstar! Thanks.

हम चीज़ हैं (यारम) – Hum Cheez Hain (Yaaram) (Sunidhi, Clinton, Ek Thi Daayan)

पढ़िए हम चीज़ हैं (यारम) – Hum Cheez Hain (Yaaram) (Sunidhi, Clinton, Ek Thi Daayan) लिरिक्स | अधिक जानकारी गीत के बारे में:

फ़िल्म का नाम: एक थी डायन (2013)
गीत के संगीत कार है: विशाल भारद्धाज
गीत के गीतकार है: गुलज़ार
इस गीत को गया है: सुनिधि चौहान, क्लिंटन सेरेजो

हम चीज़ हैं बड़े काम की, यारम
हमें काम पे रख लो कभी, यारम

हो सूरज से पहले जगाएँगे
और अख़बार की सब सुर्ख़ियाँ हम गुनगुनाएँगे
पेश करेंगे, गर्म चाय भी
कोई ख़बर, आई ना पसंद, तो एन्ड बदल देंगे
हो, मुँह खुली जम्हाई पर, हम बजाएँ चुटकियाँ
धूप न तुमको लगे, खोल देंगे छतरियाँ
पीछे-पीछे, दिन भर, घर दफ़्तर में, ले के चलेंगे हम
तुम्हारी फाइलें, तुम्हारी डायरी, गाड़ी की चाबियाँ
तुम्हारी ऐनकें, तुम्हारा लैपटॉप, तुम्हारी कैप-फ़ोन
और अपना दिल, कँवारा दिल
प्यार में हारा, बेचारा दिल
और अपना दिल…

ये कहने में कुछ रिस्क है, यारम
नाराज़ न हो, इश्क़ है, यारम
हो, रात-सवेरे, शाम या दोपहरी
बंद आँखों में, ले के तुम्हें ऊँघा करेंगे हम
तकिये, चादर महके रहते हैं
जो तुम गए, तुम्हारी ख़ुशबू सूँघा करेंगे हम
हो, ज़ुल्फ़ में फ़ँसी हुई, खोल देंगे बालियाँ
कान खिंच जाए अगर, खा लें मीठी गालियाँ
चूमते चलें पैरों के निशाँ, कि उन पर और न पाँव पड़े
तुम्हारी धड़कनें, तुम्हारा दिल सुने
तुम्हारी साँस में लगी कपकपी
हाँ गजरे बुनें, जूही, मोगरा
तो कभी दिल, हमारा दिल
प्यार में हारा, बेचारा दिल
कँवारा दिल…



[message] Leave Your Rating:1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...[/message]
Hope you liked the lyrics. Why not share it!



Found any mistakes in the [mark color=”yellow”]हम चीज़ हैं (यारम) – Hum Cheez Hain (Yaaram) (Sunidhi, Clinton, Ek Thi Daayan)[/mark]? Please mention the mistake in comments so we can better the quality of lyrics.
You are a rockstar! Thanks.